Red PURPLE BLACK

विशेष वार्ता

 लाईव्ह अपडेट :  शुभवार्ता >>  बीकेवार्ता पाठक संख्या एक करोड के नजदिक -  दिनदूगीनी रात चौगुनी बढरही  पाठकसंख्या बीकेवार्ता की ---- पाठको को लगातार नई जानकारी देनें मेे अग्रेसर रही बीकेवार्ता , इसी नवीनता के लिए पाठको का आध्यात्तिक प्यार बढा ---- सभी का दिलसे धन्यवाद --- देखीयें हमारी नई सेवायें >>>  ब्रहमाकुमारीज द्वारा आंतरराष्टीय सेवायें  | ब्रहमाकुमारीज वर्गीकत सेवायें |आगामी कार्यक्रम | विश्व और भारत महत्वपूर्ण दिवस | विचारपुष्प |


 

Visitor Meter

Articles View Hits
6496934

Example of Section Blog layout (FAQ section)

04 Feb विश्व कैंसर दिवस World Cancer day

 

4 फरवरी: विश्व कैंसर दिवस

सम्पूर्ण विश्व में 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया .  - कैंसर, क्या आप जानते हैं. इसका उद्देश्य कैंसर से संबंधित भ्रांतियों को दूर करना और निदान तथा पहचान से जुड़ी जानकारी से लोगों को जागरूक करना है. वर्ष  2011 में संयुक्त राष्ट्र ने विश्व कैंसर घोषणा पत्र स्वीकार किया था.

 

विदित हो कि कैंसर की रोकथाम, उसकी पहचान और इलाज को बढ़ावा देने के लिए प्रतिवर्ष 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया जाता है.

 

कर्कट को कोशिका के प्रकार के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है जो गाँठ से समानता रखती है, इसीलिए, उतक को गाँठ से उत्पन्न माना जा सकता है.ये क्रमशः उतक विज्ञान और स्थान हैं. सामान्य श्रेणी के उदाहरणों में शामिल हैं:

  • कार्सिनोमा : उपकला कोशिकाओं से व्युत्पन्न दुर्दम गाँठ.यह समूह सबसे सामान्य कैंसरों को अभिव्यक्त करता है, जिसमें स्तन, प्रोस्टेट, फेफड़े और बड़ी आंत के कर्कट के सामान्य रूप शामिल हैं.
  • सार्कोमा : संयोजी ऊतक, या मध्योतक कोशिकाओं से व्युत्पन्न दुर्दम गाँठ.
  • लिंफोमा और रक्त कर्कट (श्वेतरक्तता) : दुर्दमता हिमेटोपोयटिक (रक्त-बनाने वाली) कोशिकाओं से उत्पन्न होती है.
  • जनन कोशिका गाँठ : टोटीपोटेंट कोशिका से उत्पन्न गाँठ. वयस्कों में अक्सर शुक्र ग्रंथि और अंडाशय में पाया जाता है; भ्रूण, बच्चों और छोटे बच्चों में अधिकांशतया शरीर की मध्य रेखा पर, विशेष रूप से पुच्छ अस्थि के शीर्ष पर पाया जाता है; घोड़ों में अक्सर पोल (खोपड़ी के आधार) पर पाया जाता है.
  • ब्लास्टिक गाँठ या ब्लास्टोमा: एक गाँठ (आमतौर पर दुर्दम) जो एक अपरिपक्व या भ्रूणीय उतक के समान होती है.

कर्कट भिन्न रोगों का एक वर्ग है जो अपने कारणों और जैव-विज्ञान में व्यापक भिन्नता रखते हैं. कोई भी जीव, यहां तक कि पौधों, में भी कर्कट कैंसर हो सकता है. लगभग सभी कर्कट कैंसर धीरे धीरे बढ़ते हैं,कर्कट और कैंसर की कोशिकाओं और इसकी पुत्री कोशिकाओं में त्रुटि उत्पन्न हो जाती है (सामान्य प्रकार की त्रुटियों के लिए क्रियाविधि भाग देखें).

कोई भी चीज जो प्रतिकृति करती है (हमारी कोशिकाएं) संभवतया त्रुटियों से पीड़ित हो सकती हैं (उत्परिवर्तन). यदि त्रुटि सुधार और रोकथाम ठीक प्रकार से न किया जाये त्रुटियां बनी रहेंगी, और पुत्री कोशिकाओं को भी स्थानांतरित हो सकती हैं.

आम तौर पर, शरीर कई विधियों के माध्यम से कर्कट के खिलाफ बचने की कोशिश करता है, जैसे: एपोप्टोसिस, सहायक अणु (कुछ DNA पोलीमरेज), सम्भवतः जीर्णता आदि. हालांकि ये त्रुटि सुधार विधियां छोटे मायनों में अक्सर असफल हो जाती हैं, विशेष रूप से ऐसे वातावरण में जहां त्रुटियों के उत्पन्न होने और बढ़ने की संभावनाएं अधिक होती हैं.

उदाहरण के लिए, ऐसे वातारण में विघटनकारी तत्व शामिल हो सकते हैं जो कार्सिनोजन (कर्कट पैदा करने वाले कारक) कहलाते हैं. या आवधिक चोट (भौतिक, ऊष्मा आदि) हो सकती है, या वातावरण जिसमें कोशिकाएं अपने अस्तित्व के लिए विकसित नहीं हुई हों, जैसे हाइपोक्सिया [5] (देखें उपभाग).

इस प्रकार से कर्कट एक प्रगतिशील रोग है, और ये प्रगतिशील त्रुटियां धीरे धीरे कोशिका में संचित होती रहती हैं जब तक जंतु में उपस्थित कोशिका अपने कार्यों के विपरीत कार्य नहीं करने लगती.

वे त्रुटियां जो कर्कट का कारण होती हैं, अक्सर स्व-प्रवर्धनशील होती हैं, अंततः एक घातीय दर (धन की तरह) पर बढ़ती हैं.

उदाहरण के लिए:

  • एक कोशिका त्रुटि सुधार मशीनरी में एक उत्परिवर्तन, उस कोशिका और उसकी संतति में त्रुटियों के अधिक तेजी से संचित होने का कारण बन सकता है.
  • कोशिका की संकेतन (अन्तः स्रावी) मशीनरी में एक उत्परिवर्तन, आस पास की कोशिकाओं में त्रुटि उत्पन्न करने वाले संकेत भेज सकता है.
  • एक उत्परिवर्तन के कारण कोशिकाएं नियोप्लास्टिक बन सकती हैं, जिसके कारण वे स्थानांतरित होकर अधिक स्वस्थ कोशिकाओं के कार्य को बाधित कर सकती हैं.
  • एक उत्परिवर्तन के कारण कोशिका अमर बन सकती है (देखें टेलोमेयर्स), जिसके कारण वे हमेशा के लिए स्वस्थ कोशिकाओं को बाधित करती हैं.

इस प्रकार से कर्कट अक्सर कुछ त्रुटियों के कारण एक श्रृंखला अभिक्रिया के रूप में विस्फोटित होता है, ये त्रुटियां संयुक्त होकर अधिक गंभीर त्रुटियां बनाती हैं.

ऐसी त्रुटियां जो अधिक त्रुटियां उत्पन्न करती हैं, वे प्रभावी रूप से कर्कट का मूल कारण हैं, और साथ ही, ये इस बात का कारण भी हैं कि कर्कट का उपचार बहुत मुश्किल है: चाहे कर्कट की 10,000,000,000 कोशिकाओं में से सब को मार देने के बाद, उनमें से (और त्रुटि प्रवण पूर्व कर्कट कोशिकाएं) केवल 10 कोशिकाएं अपनी प्रतिकृति कर सकती हैं या त्रुटि उत्पन्न करने वाले संकेतों को अन्य कोशिकाओं को भेज सकती हैं तो प्रक्रिया फिर से शुरू हो जाती है. यह विद्रोह सदृश परिदृश्य अवांछनीय योग्यतम की उत्तरजीविता है, जहां विकासवादी बल खुद शरीर के डिजाइन और व्यवस्था को लागू करने के विरुद्ध कार्य करते हैं

वास्तव में, एक बार जब कर्कट विकसित होना शुरू हो जाता है, यही बल निरन्तर अधिक आक्रामक अवस्थाओं की ओर कर्कट की प्रगति में सहायक होता है, ओर यह क्लोनल विकास कहलाता है.[6]

कर्कट के कारणों के बारे में अनुसंधान अक्सर निम्नलिखित श्रेणियों में आते हैं:

  • कारक (उदाहरण वायरस) ओर घटनाएं (उदाहरण उत्परिवर्तन) जो कोशिकाओं में आनुवंशिक परिवर्तनों के द्वारा कर्कट को जन्म देते हैं.
  • आनुवंशिक क्षति की यथार्थ प्रकृति, और जीन जो इसके द्वारा प्रभावित होते हैं.
  • कोशिका के जीव विज्ञान पर उन आनुवंशिक परिवर्तनों के परिणाम, एक कर्कट कोशिका के लाक्षणिक गुणों को उत्पन्न करने में और साथ ही अतिरिक्त आनुवंशिक घटनाओं को बढ़ावा देने में जो आगे कर्कट के विकास में सहायक हैं.

Ref. wikipidia

नई टेक्नॉलॉजि(IT)

मनोरंजन